Parent’s Day Special Contest!Parent’s Day Special Contest!

Parent’s Day Special Contest!

Inspiration for Healthier Living With YogaInspiration for Healthier Living With Yoga

Inspiration for Healthier Living With Yoga

Spring Into a Healthier World With Super Delicious Food RecipesSpring Into a Healthier World With Super Delicious Food Recipes

Spring Into a Healthier World With Super Delicious Food Recipes

A Secret Sauce to Successful Modern ParentingA Secret Sauce to Successful Modern Parenting

A Secret Sauce to Successful Modern Parenting

Aaram Karo

एक मित्र मिले… ‘आराम करो’

Download PoemDownload PDF

कवि: पंडित गोपालप्रसाद व्यास

एक मित्र मिले, बोले, “लाला, तुम किस चक्की का खाते हो?
इस डेढ़ छटांक के राशन में भी तोंद बढ़ाए जाते हो।
क्या रक्खा माँस बढ़ाने में, मनहूस, अक्ल से काम करो।
संक्रान्ति-काल की बेला है, मर मिटो, जगत में नाम करो।
“हम बोले, “रहने दो लेक्चर, पुरुषों को मत बदनाम करो।
इस दौड़-धूप में क्या रक्खा, आराम करो, आराम करो।।

आराम ज़िन्दगी की कुंजी, इससे न तपेदिक होती है।
आराम सुधा की एक बूंद, तन का दुबलापन खोती है।
आराम शब्द में ‘राम’ छिपा जो भव-बंधन को खोता है।
आराम शब्द का ज्ञाता तो विरला ही योगी होता है।
इसलिए तुम्हें समझाता हूँ, मेरे अनुभव से काम करो।
ये जीवन, यौवन क्षणभंगुर, आराम करो, आराम करो।।

यदि करना ही कुछ पड़ जाए तो अधिक न तुम उत्पात करो।
अपने घर में बैठे-बैठे बस लंबी-लंबी बात करो।।

करने-धरने में क्या रक्खा जो रक्खा बात बनाने में।
जो ओठ हिलाने में रस है, वह कभी न हाथ हिलाने में।
तुम मुझसे पूछो बतलाऊँ, है मज़ा मूर्ख कहलाने में।
जीवन-जागृति में क्या रक्खा जो रक्खा है सो जाने में।।

मैं यही सोचकर पास अक्ल के, कम ही जाया करता हूँ।
जो बुद्धिमान जन होते हैं, उनसे कतराया करता हूँ।
दीए जलने के पहले ही घर में आ जाया करता हूँ।
जो मिलता है, खा लेता हूँ, चुपके सो जाया करता हूँ।।

मेरी गीता में लिखा हुआ, सच्चे योगी जो होते हैं,
वे कम-से-कम बारह घंटे तो बेफ़िक्री से सोते हैं।।

अदवायन खिंची खाट में जो पड़ते ही आनंद आता है।
वह सात स्वर्ग, अपवर्ग, मोक्ष से भी ऊँचा उठ जाता है।
जब ‘सुख की नींद’ कढ़ा तकिया, इस सर के नीचे आता है,
तो सच कहता हूँ इस सर में, इंजन जैसा लग जाता है।।

मैं मेल ट्रेन हो जाता हूँ, बुद्धि भी फक-फक करती है।
भावों का रश हो जाता है, कविता सब उमड़ी पड़ती है।।

मैं औरों की तो नहीं, बात पहले अपनी ही लेता हूँ।
मैं पड़ा खाट पर बूटों को ऊँटों की उपमा देता हूँ।।

मैं खटरागी हूँ मुझको तो खटिया में गीत फूटते हैं।
छत की कड़ियाँ गिनते-गिनते छंदों के बंध टूटते हैं।
मैं इसीलिए तो कहता हूँ मेरे अनुभव से काम करो।
यह खाट बिछा लो आँगन में, लेटो, बैठो, आराम करो।।

=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=

 

English Version :

Ek Mitr mile… ‘Aaram Karo’

Poet: Gopal Prasad Vyas

Download PoemDownload PDF

 

ek mitr mile, bole, “lala, tum kis chakkee ka khate ho?
is dedh chhatank ke rashan men bhi tond badhae jate ho.
kya rakkha mans badhane men, manahoos, akl se kam karo.
sankranti-kal kee bela hai, mar mito, jagat men nam karo.
“ham bole, “rahane do lekchar, purushon ko mat badanam karo.
is daud-dhoop men kya rakkha, aaram karo, aaram karo.

aaram zindagi kee kunji, isase n tapedik hoti hai
aaram sudha kee ek boond, tan ka dubalapan khoti hai.
aaram shabd men ‘rama’ chhipa jo bhav-bandhan ko khota hai.
aaram shabd ka gyata to virala hi yogi hota hai.
isalie tumhen samajhata hoon, mere anubhav se kam karo.
ye jivan, yauvan kshannabhangur, aaram karo, aaram karo.

yadi karana hi kuchh pad jae to adhik n tum utpat karo.
apane ghar men baithe-baithe bas lanbi-lanbi bat karo.

karane-dharane men kya rakkha jo rakkha bat banane men.
jo oth hilane men ras hai, vah kabhi n hath hilane men.
tum mujhase poochho batalaoon, hai maza moorkh kahalane men.
jivan-jagriti men kya rakkha jo rakkha hai so jane men.

main yahi sochakar pas akl ke, kam hi jaya karata hoon.
jo buddhiman jan hote hain, unase kataraya karata hoon.
die jalane ke pahale hi ghar men aa jaya karata hoon.
jo milata hai, kha leta hoon, chupake so jaya karata hoon.

meri gita men likha huaa, sachche yogi jo hote hain,
ve kam-se-kam barah ghante to befikri se sote hain.

adavayan khinchi khat men jo padte hi aanand aata hai.
vah sat svarg, apavarg, moksh se bhi ooncha uth jata hai.
jab ‘sukh kee ninda’ kadha takiya, is sar ke niche aata hai,
to sach kahata hoon is sar men, injan jaisa lag jata hai.

main mel tren ho jata hoon, buddhi bhi fak-fak karati hai.
bhavon ka rash ho jata hai, kavita sab umadi padti hai.

main auron kee to nahin, bat pahale apani hi leta hoon.
main pada khat par booton ko oonton kee upama deta hoon.

main khataragi hoon mujhako to khatiya men git footate hain.
chhat kee kadiyan ginate-ginate chhandon ke bandh tootate hain.
main isilie to kahata hoon mere anubhav se kam karo.
yah khat bichha lo aangan men, leto, baitho, aaram karo.

Login