Phool Aur Kanta

फूल और काँटा

कवि: अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

Hari audh

 

हैं जनम लेते जगह में एक ही,
एक ही पौधा उन्हें है पालता।
रात में उन पर चमकता चांद भी,
एक ही सी चांदनी है डालता।।

मेह उन पर है बरसता एक-सा,
एक-सी उन पर हवाएं हैं बहीं।
पर सदा ही यह दिखाता है हमें,
ढंग उनके एक-से होते नहीं।।

roses-with-thorns

छेद कर कांटा किसी की उंगलियां,
फाड़ देता है किसी का वर वसन।
प्यार-डूबी तितलियों का पर कतर,
भौंरें का है बेध देता श्याम तन।।

फूल लेकर तितलियों को गोद में,
भौंरें को अपना अनूठा रस पिला।
निज सुगंधों औ निराले रंग से,
है सदा देता कली जी की खिला।।

=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=*=

English Version :

Phool aur Kanta

Download PoemDownload PDF

Poet: Ayodhya Singh Upadhyaya ‘Hari Audh’

Hari-audh

Hain janam lete jagah main ek hi,
ek hi paudha unhen hai palta.
Raat main un par camakata chand bhi,
ek hi si chnandan hai dalta. 

Meh un par hai barasta ek-sa,
    ek-si un par havaen hain bahin.
                                                       Par sada hi yah dikhata hai hame,
                                                 dhang unake ek-se hote nahin. 

rosethorns

Ched kar kanta kisi ki ungaliyan,
phad deta hai kisi ka var vasan.
Pyar-dubi titaliyon ka par katar,
bhaunren ka hai bedh deta shyam tan. 

Phool lekara titaliyon ko gdda main,
bhaunren ko apana anutha ras pila.
Nij sugandhon au nirale rang se,
hai sada deta kali ji ki khila.

Login